आखिर कब किसानो की आय दोगुनी होगी ? किसानो को सब पागल बना रहे है | When Will The Income of Farmers Double

आखिर कब किसानो की आय दोगुनी होगी ? किसानो को सब पागल बना रहे है | When Will The Income of Farmers Double

Farmer Updates - नमस्कार प्यारे किसान भाई, कृषि उत्पाद व्यापार और वाणिज्य विधेयक, 17 सितंबर, 2020 को लोकसभा में पारित किया गया था। इसके खिलाफ कई आवाजें उठाई गईं। केंद्र सरकार में मंत्री और अकाली दल के एक नेता हरसिमत कौर ने बिल को किसान विरोधी बताते हुए मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। दूसरी ओर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि यह बिल तीन 'काले' अध्यादेश वाले किसानों-कृषि श्रमिकों के लिए एक घातक झटका है, जिससे उन्हें एमएसपी का अधिकार नहीं मिलता है और किसान पूंजीपतियों को अपनी जमीन बेचने के लिए मजबूर हो जाते हैं। इस सब के बीच में, सरकार इस बिल को किसानों के हित में बता रही है। सरकार का कहना है कि इससे किसानों की आय दोगुनी करने में मदद मिलेगी।

When Will The Income of Farmers Double
When Will The Income of Farmers Double


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए विभिन्न मंचों से कई बार बात की है। लेकिन सरकार की अब तक की नीतियां 2022 तक किसानों की आय को दोगुना नहीं करती हैं। कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि किसानों की आय को दोगुना करने के लिए वार्षिक कृषि विकास दर 14.86 प्रतिशत होनी चाहिए। बता दें कि भारतीय कृषि के इतिहास में, किसी भी वर्ष में ऐसी कृषि विकास दर कभी भी हासिल नहीं हुई है। अगर हम पिछले तीन वर्षों में कृषि विकास दर की बात करें तो 2016-17 में यह 6.3 प्रतिशत, 2017-18 में 5.0 प्रतिशत और 2018-19 में 2.9 प्रतिशत थी।


किसानो की वर्तमान स्थिति (Current status of farmers)

सीमांत किसानों को समय-समय पर ठोकर खाने के लिए मजबूर किया जाता है। विभिन्न आंदोलनों के माध्यम से, किसानों ने आवाज उठाई। लेकिन सरकार के कानों तक पहुँचते-पहुँचते उसकी आवाज़ खामोश हो गई। वर्ष 2017 को याद करें जब तमिलनाडु के किसानों ने अपनी मांगों को लेकर राष्ट्रपति भवन के पास नग्न प्रदर्शन किया। क्या इस देश में किसानों को अपनी आवाज उठाने के लिए नग्न होना पड़ता है? यह कहीं से भी उचित नहीं है। भारत में किसानों की वर्तमान स्थिति यह है कि किसान पर कर्ज का बोझ है। उसे भी ऊपर से टैक्स देना होगा। किसान सम्मान निधि भी ज्यादा मदद नहीं कर पा रही है। ऐसा इसलिए है क्योंकि खेतों की जुताई और बीज की कीमतें नीचे की बजाय ऊपर जा रही हैं। अगर किसान के पास ट्रैक्टर है, तो उसे ट्रैक्टर के टायर बदलने पर अधिक जीएसटी देना होगा। यह हर किसान के बस की बात नहीं है।


किसानों की आय दोगुनी कैसे होगी ? (How will the income of farmers be doubled)

अगर 2022 तक किसानों की आय दोगुनी हो जाती है, तो यह एक मील का पत्थर साबित होगा। किसानों की आय दोगुनी करने के लिए बेहतर तकनीक और किस्मों के माध्यम से उत्पादकता बढ़ाना आवश्यक है। गुणवत्ता वाले बीज, उर्वरक, सिंचाई और रसायन भी उगाने हैं। भारत में किसानों की आय को दोगुना करने और कृषि को बचाने के लिए, पारिश्रमिक कीमतों और सार्वजनिक निवेश पर फसलों को बढ़ावा देना आवश्यक है। अगर कोई किसान कृषि यंत्र खरीदता है या अपने ट्रैक्टर का टायर बदलता है, तो उस पर जीएसटी लगाया जाना चाहिए।


अब सरकार के पास क्या विकल्प हैं (What options does the government have now)

सरकार के पास दो विकल्प हैं। यह स्वीकार करना है कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी नहीं हो सकती है। दूसरी ओर, दूसरा बड़े पैमाने पर योजना बनाने और लक्ष्य निर्धारित करने और काम को आगे बढ़ाने के लिए है। केंद्र सरकार के सांख्यिकी मंत्रालय के अनुसार, 2020-21 के वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में, यानी अप्रैल और जून के बीच भारत की विकास दर में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई है। यदि कृषि में व्यापक सुधार किया जाता है और हम इसे लाभदायक बनाने में सफल होते हैं, तो भारत में चल रही आर्थिक मंदी को आर्थिक सुधारों में बदल दिया जा सकता है।

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

नया पेज पुराने

खेती बाड़ी और सरकारी योजनाओ की जानकारी के लिए Telegram चैनल पर जुड़े