मलेरिया का घरेलु उपचार | Malaria Ka Gharelu Upchar

मलेरिया का घरेलु उपचार | Malaria Ka Gharelu Upchar 

Malaria Ka Gharelu Upchara  - मलेरिया आज पुराना रोग है। दुनिया भर में प्रतिवर्ष 40 लाख लोगो को मलेरिया होता है जिसमें से करीब 21 से 22 लाख लोगो की मृत्यु हो जाती है। मलेरिया को सही समय पर पहचान कर इनसे होने वाली जान हानि से बचा जा सकता है आप सभी को Topbharat पर सभी जानकारी मिलने वाली है जिसके निम्न बिंदु है।
  • मलेरिया क्या है 
  • मलेरिया कैसे फैलता है
  • मलेरिया के लक्षण
  • मलेरिया की रोकथाम
  • मच्छरों को बढ़ने से कैसे रोका जाए

मलेरिया क्या है ( maleriya kya hai )

Malaria ka gharelu upchar"मलेरिया का घरेलू उपचार"malaria ka ilaj in hindi"maleriya ka upchar"
Malaria ka gharelu upchar

मलेरिया काफी पुराना रोग है। यह रोग मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से फैलता है। मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से हमारे शरीर के अंदर प्लाज्मोडियम, फेल्सिपेरम आदि परजीवी हमारे शरीर के अंदर प्रवेश कर जाते है। जिस कारण हमारे शरीर में मलेरिया का आक्रमण हो जाता है। मलेरिया दिमागी बुखार जैसे रोग भी फैल जाते है। मलेरिया होने का कारण प्लाज्मोडियम है। नर मच्छर मानव को नहीं काटता है और अपना भोजन पेड़ पौधों से प्राप्त करता है 

मलेरिया कैसे फैलता है ( maleriya kaise phailata hai )

जब मादा एनाफिलीज मच्छर, मलेरिया के रोगी को काटकर स्वच्छ आदमी को काटता है तो स्वच्छ आदमी में मलेरिया के कीटाणु प्रवेश कर जाते हैं और उसे मलेरिया हो जाता है इस प्रक्रिया में करीब 10 दिन बाद बुखार आता है इस प्रकार मलेरिया एक आदमी से दूसरे आदमी और दूसरे आदमी से तीसरे आदमी में और अंत में पूरे गांव या समाज में फैल जाता है

प्याज खाने के गुण

मलेरिया के लक्षण ( maleriya ke lakshan )

आमतौर पर एक सामान्य बुखार भी मलेरिया हो सकता है। मलेरिया होने पर रोगी को अधिक समय तक बुखार रहता है। बुखार उतरने पर रोगी कमजोर महसूस करता है। मलेरिया में सिर दर्द और उल्टी भी हो सकती है। मुख्य रूप से इन बिंदुओं से हम मलेरिया की पहचान कर सकते है।
  • बुखार तेज पसीने के साथ धीरे धीरे उतरने लगती है यह प्रक्रिया 2 से 3 घण्टे तक रह सकती है। इसके बाद बुखार नियत समय अंतराल पर आता है। और जब भी बुखार आएगा उसमे रोगी को ठंड या सर्दी लगती है 
  • मलेरिया बुखार में रोगी के शरीर का तापमान 40℃ तक पहुँच जाता है। इस से रोगी को अचानक सर दर्द होने लगता है साथ ही शरीर में अत्यधिक जलन भी मसूस होने लगती है।
  • जब रोगी को मलेरिया बुखार आता है तो अचानक से रोगी को सर्दी लगने लगती है। यह ठंड रोगी को 20 मिनट से लेकर 2 घण्टे तक रह सकती है
इस प्रकार हम इन बिंदुओं की सहायता से मलेरिया बुखार की पहचान कर सकते है।

मलेरिया की रोकथाम ( maleriya kee rokathaam )

मलेरिया की रोकथाम के लिए निम्न बिन्दुओं को अपनाए जा सकते है।

  • घर के आसपास बने पानी के गढ़े में मिट्टी का तेल डालकर उसमे पनपने वाले मच्छर को नष्ट करे
  • घर के आसपास तुलसी का पेड़ लगाए 
  • नीम की पत्तियों को जलाकर घर में और आसपास धुँआ करे 
  • रात को सोते समय मच्छरदानी  का उपयोग करे
  • घर के आसपास डीडीटी का छीड़काव करे।
  • कुएं के पानी में 200 ग्राम क्लोरीन मिलाए।
  • घर में नालियो को साफ़ रखे ताकि पानी एक जगह नहीं रुके।
  • पानी को जमीन के गडो में न भरने दे

मच्छरों को बढ़ने से कैसे रोके ( machchharon ko badhane se kaise roka jae 

  • नीम के तेल को पानी में मिलाकर स्प्रे करने से मच्छर मर जाती है
  • घर के आस-पास झाड़ियों में मच्छर छुपते हैं इन झाड़ियों को काट कर साफ कर दे
  • घर के आस पास पानी इकटा न होने दे।

बीमारी से बचने का तरीका

दोस्तों आशा करता हु आप को दी गई जानकारी बहुत ही पसंद आई होगी। इसी प्रकार की नई जानकारी के लिए आप हमारी हिंदी वेबसाइट TopBharat पर जुड़े रहे। इसके बाद भी आप के कोई प्रशन है तो आप हमें निचे कमेंट कर सकते है। हमें आप की मदद करने में बहुत ख़ुशी होगी धन्यवाद।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां